मूंगफली के फायदे

Spread the love
मूंगफली के फायदे
मूंगफली के फायदे

अरचिस हाइपोगिया या मूंगफली कई स्वास्थ्य लाभों के साथ आवश्यक पोषक तत्वों से भरपूर होती है। उन्हें मूंगफली, आंवला और मूंगफली के रूप में भी जाना जाता है और आमतौर पर भुना हुआ या उनके कच्चे रूप में खाया जाता है। मूंगफली कैलोरी में उच्च होती है और इसमें सभी 20 अमीनो एसिड होते हैं, उनमें से सबसे प्रचुर मात्रा में आर्जिनिन होता है जो प्रतिरक्षा प्रणाली को उत्तेजित करता है। इसके अलावा, वे कई विटामिन, खनिज और पौधों के यौगिकों से भरपूर होते हैं जिनका उपयोग कई बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है। मूंगफली हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा दे सकती है, वजन घटाने में सहायता कर सकती है, पित्त पथरी को रोक सकती है और रक्त शर्करा नियंत्रण में मदद कर सकती है। इस लेख में, मूंगफली के फायदे, उनके पोषण प्रोफाइल और उनके कारण होने वाले संभावित नुकसान पर चर्चा करेंगे है।

मूंगफली के फायदे (Benefits of Peanut)

मूंगफली के फायदे और नुकसान दोनों है जिसमें से हम बात करते है मूंगफली के फायदे की जो की सेहत के लिए काफी फायेमंद है।

1. हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा दे सकता है

हृदय स्वास्थ्य के व्यक्ति के लिए मूंगफली के फायदे काफी फायदेमंद है और उपयोगी है। मूंगफली खाने से कोरोनरी हृदय रोग (सीएचडी) से बचाव में मदद मिल सकती है। हार्वर्ड स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि मूंगफली खराब कोलेस्ट्रॉल (एलडीएल) के स्तर को कम कर सकती है। खराब कोलेस्ट्रॉल से रक्त वाहिकाओं में प्लाक का विकास होता है और मूंगफली इसे रोक सकती है। चूहों पर किए गए एक अध्ययन में यह भी कहा गया है कि पॉलीफेनोल से भरपूर मूंगफली के छिलके का अर्क उस सूजन को कम कर सकता है जो हृदय रोग का कारण बनती है।

मूंगफली में मौजूद रेस्वेराट्रोल में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो हृदय रोग से लड़ने में मदद कर सकते हैं। यही कारण है कि मूँगफली में रेस्वेराट्रॉल युक्त अन्य खाद्य पदार्थों के समान कार्डियोप्रोटेक्टिव प्रभाव होता है।

पर्ड्यू विश्वविद्यालय द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि मूंगफली का नियमित सेवन ट्राइग्लिसराइड्स को भी कम करता है, जिससे हृदय स्वास्थ्य को और बढ़ावा मिलता है। इस प्रभाव को मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड, फोलेट और मैग्नीशियम की उपस्थिति के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है । इसके अलावा, मरमारा विश्वविद्यालय (तुर्की) द्वारा किए गए चूहों पर किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि मूंगफली अच्छे कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाती है। हालांकि, मूंगफली के इस प्रभाव को समझने के लिए और अधिक अध्ययन की आवश्यकता है।

Read more

शहद के 8 नुकसान

सौंफ के फायदे

सफेद मिर्च के फायदे

2. वजन घटाने में सहायता कर सकते हैं

मूंगफली में कैलोरी की मात्रा बहुत अधिक होती है, लेकिन ये वजन बढ़ाने के बजाय वजन घटाने में योगदान करते हैं। मूंगफली ऊर्जा से भरपूर खाद्य पदार्थ हैं। इसलिए नाश्ते के रूप में इनका सेवन करने से आप बाद में दिन में कम कैलोरी का सेवन कर सकते हैं। मूंगफली का सेवन खाने की तुलना में नाश्ते के रूप में करने पर परिपूर्णता की तीव्र अनुभूति होती है। यह अंततः वजन घटाने में मदद कर सकता है। कुछ अध्ययनों ने सुझाव दिया कि अधिक अखरोट का सेवन शरीर के अधिक वजन बढ़ने से जुड़ा नहीं था और वजन नियंत्रण में सहायता कर सकता है।

अपने आहार में मूंगफली को शामिल करना वजन बढ़ाने के बिना पोषक तत्वों का सेवन बढ़ाने का एक तरीका है। शोध से यह भी पता चलता है कि मूंगफली और पीनट बटर के सेवन से पेट भरा हुआ महसूस हो सकता है। ये समान मात्रा में कार्बोहाइड्रेट से भरे स्नैक्स से बेहतर व्यक्तियों को संतुष्ट कर सकते हैं। इस प्रकार हम कहे सकते है वजन घटाने के लिए मूंगफली के फायदे बहुत ही असरदार है।

3. पित्त पथरी को रोक सकता है

पथरी को रुकने के लिए भी मूंगफली के फायदे बहुत ही उपगोगी इलाज है। मूंगफली का सेवन पित्त पथरी के कम जोखिम से जुड़ा हुआ है। हार्वर्ड मेडिकल स्कूल और ब्रिघम और महिला अस्पताल (बोस्टन) द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि मूंगफली के सेवन से पित्त पथरी का खतरा कम हो सकता है। एक सप्ताह में पांच या अधिक यूनिट नट्स (मूंगफली सहित) का सेवन करने वाले पुरुषों को पित्त पथरी रोग होने का खतरा कम होता है।

सप्ताह में पांच या अधिक यूनिट नट्स का सेवन करने वाली महिलाओं को कोलेसिस्टेक्टोमी (पित्ताशय की थैली को हटाना) का खतरा कम होता है । हालांकि, मूंगफली के इस फायदे को समझने के लिए लंबी अवधि के अध्ययन की जरूरत है।

4. रक्त शर्करा नियंत्रण में सहायता कर सकता है

मूंगफली या पीनट बटर को खाने में शामिल करने से ब्लड शुगर लेवल नहीं बढ़ता है। जीएल (जैसे बैगेल या एक गिलास जूस) में उच्च भोजन के साथ इनका सेवन करने से आपके रक्त शर्करा के स्तर को स्थिर किया जा सकता है। मूंगफली का जीआई (ग्लाइसेमिक इंडेक्स) स्कोर 14 होता है। जबकि मूंगफली का जीआई 14 (100-बिंदु पैमाने पर) होता है, उनका जीएल (ग्लाइसेमिक लोड, जो बताता है कि एक विशेष भोजन आपके शर्करा के स्तर पर क्या करेगा) सिर्फ 1 है। इसीलिए अमेरिकन डायबिटीज़ एसोसिएशन मूंगफली को डायबिटीज़ सुपरफ़ूड का नाम देता है। मूंगफली में मौजूद फाइबर रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में भी मदद करता है। इनमें मैग्नीशियम और अन्य स्वस्थ तेल भी होते हैं जो इस पहलू में भूमिका निभाते हैं।

फ़ेडरल यूनिवर्सिटी ऑफ़ विकोका (ब्राज़ील) द्वारा मोटापे से ग्रस्त महिलाओं पर किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि सुबह मूंगफली या पीनट बटर का सेवन पूरे दिन ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रित कर सकता है। हार्वर्ड स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ द्वारा किए गए एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि मूंगफली और पीनट बटर का अधिक सेवन महिलाओं में टाइप 2 मधुमेह के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है।

इसके अतिरिक्त, 24 सप्ताह से अधिक समय तक मूंगफली से समृद्ध आहार के दैनिक सेवन से टाइप 2 मधुमेह के रोगियों में स्वास्थ्य मानकों में सुधार हो सकता है। मूंगफली की समृद्ध पोषण प्रोफ़ाइल इसके लिए जिम्मेदार है, जिसमें मोनोअनसैचुरेटेड वसा, फाइबर, आर्जिनिन, नियासिन, फोलेट और विटामिन ई शामिल हैं।

5. कैंसर के खतरे को कम कर सकता है

कैंसर जैसी समस्या के लिए मूंगफली के फायदे असरदार है और उपयोगी है। मूंगफली का अधिक सेवन (अन्य नट्स सहित) कोलोरेक्टल कैंसर के कम जोखिम से जोड़ा गया है। मूंगफली में पाए जाने वाले आइसोफ्लेवोन्स, रेस्वेराट्रोल और फेनोलिक एसिड में कैंसर रोधी गुण होते हैं जो कैंसर के खतरे को कम करने में मदद कर सकते हैं।

नीदरलैंड में किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि मूंगफली का सेवन पोस्टमेनोपॉज़ल स्तन कैंसर के कम जोखिम से भी जुड़ा हुआ है। मूंगफली पुराने अमेरिकी वयस्कों में गैस्ट्रिक और एसोफैगल कैंसर को रोकने के लिए भी पाई गई। जब तुलना की गई, तो जिन लोगों ने नट्स या पीनट बटर का सेवन नहीं किया, उनमें इन कैंसर के विकसित होने का सबसे अधिक जोखिम था।

हालांकि, मूंगफली और कैंसर को लेकर एक चिंता है। मूंगफली एफ्लाटॉक्सिन से दूषित हो सकती है, कुछ कवक द्वारा उत्पादित विषाक्त पदार्थों का एक परिवार। ये विषाक्त पदार्थ लीवर कैंसर के खतरे को बढ़ा सकते हैं। जॉर्जिया विश्वविद्यालय (यूएसए) द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि मूंगफली में पाए जाने वाले रेस्वेराट्रोल में शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो कैंसर के खतरे को कम करने में मदद करते हैं।

6. इरेक्टाइल डिसफंक्शन का इलाज कर सकता है

मूंगफली आर्जिनिन से भरपूर होती है, जो एक आवश्यक अमीनो एसिड है। इरेक्टाइल के संभावित उपचार के रूप में आर्गिनिन का व्यापक रूप से अध्ययन किया गया है ।

यह समझने के लिए और अधिक शोध की आवश्यकता है कि क्या केवल आर्जिनिन स्तंभन दोष के उपचार में मदद कर सकता है। लेकिन, अध्ययन इस बात की पुष्टि करते हैं कि हर्बल सप्लीमेंट (जिसे पाइकोजेनॉल कहा जाता है) के साथ इस अमीनो एसिड का मौखिक प्रशासन इरेक्टाइल डिसफंक्शन का इलाज कर सकता है ।

7. ऊर्जा को बढ़ावा दे सकता है

मूंगफली प्रोटीन और फाइबर का एक समृद्ध स्रोत है जो कार्बोहाइड्रेट को ऊर्जा में बदलने में मदद करता है। मूंगफली की प्रोटीन सामग्री इसकी कुल कैलोरी का लगभग 25% है । मूंगफली में फाइबर और प्रोटीन का संयोजन शरीर में ऊर्जा की एक स्थिर रिहाई की सुविधा के लिए पाचन प्रक्रिया को धीमा कर देता है। हालांकि मूंगफली के इस फायदे को समझने के लिए अभी और शोध की जरूरत है।

8. पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (पीसीओएस) के लक्षणों से राहत दिला सकता है

इस संबंध में बहुत कम शोध है। उपाख्यानात्मक साक्ष्य बताते हैं कि मूंगफली पीसीओएस के इलाज में मदद कर सकती है क्योंकि उनमें मोनोअनसैचुरेटेड वसा होती है। कुछ शोध में कहा गया है कि इन वसा में उच्च आहार पीसीओएस के साथ महिलाओं की चयापचय प्रोफ़ाइल में सुधार करने में मदद कर सकता है ।

9. एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं

मूंगफली कई पौधों के यौगिकों और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होती है। इनमें से अधिकांश यौगिक मूंगफली के छिलके में उपलब्ध होते हैं, जिन्हें इसके सभी लाभ प्राप्त करने के लिए कच्चा ही खाना चाहिए। मूंगफली में आसानी से उपलब्ध कुछ पौधों के यौगिकों में रेस्वेराट्रोल, क्यूमरिक एसिड और फाइटोस्टेरॉल शामिल हैं जो पौधों के बीजों में पाए जाने वाले कोलेस्ट्रॉल, आइसोफ्लेवोन्स और फाइटिक एसिड के अवशोषण को कम करने में मदद करते हैं ।

10. अल्जाइमर रोग से बचाव में मदद कर सकता है

नियासिन से भरपूर खाद्य पदार्थ – जैसे मूंगफली – अल्जाइमर रोग और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट से बचा सकते हैं । मूंगफली नियासिन और विटामिन ई का एक उत्कृष्ट स्रोत हैं, दोनों को अल्जाइमर रोग से बचाने के लिए दिखाया गया है। 65 वर्ष और उससे अधिक उम्र के 4000 लोगों पर किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि भोजन से नियासिन संज्ञानात्मक गिरावट की दर को धीमा कर देता है।

11. त्वचा के लिए मूंगफली के फायदे

वास्तविक साक्ष्य के अनुसार, मूंगफली का सेवन आपकी त्वचा को सनबर्न और क्षति से बचा सकता है। मूंगफली में पाए जाने वाले विटामिन ई, मैग्नीशियम और जिंक बैक्टीरिया से लड़ सकते हैं और आपकी त्वचा को चमकदार बना सकते हैं। मूंगफली में उपलब्ध एक एंटीऑक्सीडेंट बीटा-कैरोटीन त्वचा के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में भी मदद कर सकता है। हालांकि, इस पहलू में शोध सीमित है।

12. बालों के लिए मूंगफली के फायदे

इसको बालों के विकास से जोड़ने वाले वैज्ञानिक शोध की कमी है। चूंकि मूंगफली में सभी अमीनो एसिड और बहुत सारे प्रोटीन होते हैं, वे बालों के विकास के लिए आहार के लिए एक अच्छा पूरक हो सकते हैं।

मूंगफली की नुट्रिशन वैल्यू  (Nutrition Value of Peanuts)

मूंगफली के फायदे को जाने के बाद अब बात करते है मूंगफली की नुट्रिशन वैल्यू की।

पोषण मूल्य प्रति 100 ग्राम (3.5 ऑउंस)
ऊर्जा2,385 केजे (570 किलो कैलोरी)
कार्बोहाइड्रेट21 ग्राम
शर्करा0.0 जी
फाइबर आहार9 ग्राम
मोटा48 ग्राम
तर-बतर7 ग्राम
एकलअसंतृप्त24 ग्राम
बहुअसंतृप्त16 ग्राम
प्रोटीन25 ग्राम
tryptophan0.2445 ग्राम
थ्रेओनाइन0.859 ग्राम
आइसोल्यूसीन0.882 ग्राम
ल्यूसीन1.627 ग्राम
लाइसिन0.901 जी
मेथियोनीन0.308 ग्राम
सिस्टीन0.322 ग्राम
फेनिलएलनिन1.300 ग्राम
टायरोसिन1.020 ग्राम
वेलिन   1.052 ग्राम
arginine3.001 जी
हिस्टडीन0.634 ग्राम
अलैनिन0.997 ग्राम
एस्पार्टिक अम्ल3.060 ग्राम
ग्लुटामिक एसिड5.243 ग्राम
ग्लाइसिन1.412 ग्राम
प्रोलाइन1.107 ग्राम
सेरीन1.236 ग्राम
विटामिनमात्रा % डीवी †
थायमिन (बी १ )52% 0.6 मिलीग्राम
राइबोफ्लेविन (बी 2 )25% 0.3 मिलीग्राम
नियासिन (बी 3 )86% 12.9 मिलीग्राम
पैंटोथेनिक एसिड (बी 5 )36% 1.8 मिलीग्राम
विटामिन बी 623% 0.3 मिलीग्राम
फोलेट (बी 9 )62% 246 माइक्रोग्राम
विटामिन सी0% 0.0 मिलीग्राम
विटामिन ई44% 6.6 मिलीग्राम
खनिज पदार्थमात्रा % डीवी †
कैल्शियम6% 62 मिलीग्राम
लोहा15% 2 मिलीग्राम
मैगनीशियम52% 184 मिलीग्राम
मैंगनीज95% 2.0 मिलीग्राम
फास्फोरस48% 336 मिलीग्राम
पोटैशियम7% 332 मिलीग्राम
जस्ता35% 3.3 मिलीग्राम
अन्य घटकमात्रा
पानी4.26 ग्राम
मूंगफली की नुट्रिशन वैल्यू

मूंगफली कैसे खाएं?

जरूरी है कि आप मूंगफली का सेवन करने से पहले उसे उबाल लें। हालांकि कच्ची मूंगफली पौष्टिक रूप से समान होती हैं, लेकिन उनमें एफ्लाटॉक्सिन (एक शक्तिशाली विष) का खतरा हो सकता है। कुछ शोधों से यह भी पता चलता है कि मूंगफली को उबालने से उनमें एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा बढ़ जाती है। उबली हुई मूंगफली में आइसोफ्लेवोन एंटीऑक्सिडेंट सामग्री में दो से चार गुना वृद्धि होती है।

मूंगफली खाने का सबसे आसान तरीका है कि आप उन्हें अपने मुंह में डाल लें। अगर आपको लगता है कि यह थोड़ा उबाऊ है, तो हमारे पास अन्य दिलचस्प तरीके हैं।

मूंगफली को अपने आहार में शामिल करने के सर्वोत्तम तरीके

आप अपने शाम के सलाद में कच्ची या उबली हुई मूंगफली मिला सकते हैं, या उनके साथ अपने नाश्ते के अनाज में मिला सकते हैं। आप जमे हुए दही में मूंगफली भी मिला सकते हैं।

इसके अलावा आप मूंगफली की यह लोकप्रिय रेसिपी भी ट्राई कर सकते हैं।

शहद भुना हुआ मूंगफली

जिसकी आपको जरूरत है

2 बड़े चम्मच मक्खन

1/3 कप शहद

छोटा चम्मच दालचीनी

1 चम्मच वनीला एक्सट्रेक्ट

2 चम्मच नमक (विभाजित)

1 पौंड कच्ची मूंगफली

कप दानेदार चीनी

दिशा-निर्देश

एल्युमिनियम फॉयल से ढककर बेकिंग शीट तैयार करें। इस फॉइल को नॉन-स्टिक कुकिंग स्प्रे से स्प्रे करें।

ओवन को 325° F पर प्रीहीट करें।

माइक्रोवेव-सेफ बाउल में सभी सामग्री (मूंगफली, चीनी और एक चम्मच नमक को छोड़कर) डालें और मक्खन के पिघलने तक लगभग 45 सेकंड के लिए माइक्रोवेव करें।

ओवन से निकालें। तब तक हिलाएं जब तक आपके पास एक चिकना तरल न हो जाए।

इस तरल मिश्रण में मूंगफली डालें और तब तक हिलाएं जब तक वे सभी लेपित न हो जाएं।

इन मूंगफली को बेकिंग शीट पर डालें और एक समान परत में फैलाएं।

मूंगफली को लगभग 20 मिनट तक बेक करें। जलने से रोकने के लिए हर 5 मिनट में हिलाते रहें।

मूंगफली के गोल्डन ब्राउन होने के बाद, इन्हें ओवन से निकाल कर फिर से चला दीजिये. यह शहद को बेकिंग शीट पर वितरित करना है।

दानेदार चीनी और बचा हुआ चम्मच नमक छिड़कें और फिर से हिलाएं।

मूंगफली को ठंडा होने दें। गुच्छों से बचने के लिए हिलाते रहें।

एक बार जब वे पूरी तरह से ठंडा हो जाएं, तो उन्हें एक एयरटाइट कंटेनर में रखें और बाद में उपयोग के लिए कमरे के तापमान पर स्टोर करें।

आपको जानकर हैरानी होगी कि मूंगफली कई प्रकार की होती है। अगले भाग में उनके बारे में और जानें।

मूंगफली के प्रकार

राष्ट्रीय मूंगफली बोर्ड के अनुसार, मूंगफली की चार मुख्य किस्में हैं – धावक मूंगफली, वर्जीनिया मूंगफली, स्पेनिश मूंगफली, और वालेंसिया मूंगफली। ये कच्चे, इन-शेल, शेल्ड, ड्राई-रोस्टेड और ऑइल-रोस्टेड जैसे विभिन्न रूपों में उपलब्ध हैं। कई स्वास्थ्य लाभों के साथ कच्ची मूंगफली सबसे स्वस्थ प्रकार की मूंगफली हैं।

मूंगफली का मक्खन नमकीन या अनसाल्टेड, चंकी या मलाईदार बेचा जाता है। आपके पास कच्ची मूंगफली हो सकती है यदि आप उन्हें किसी विश्वसनीय विक्रेता से खरीद सकते हैं। हालांकि, सावधानी बरतना बेहतर है।

कैसे चुनें और स्टोर करें

छिलके वाली और बिना छिलके वाली मूंगफली जिन्हें ठंडे स्थान पर रखा जाता है, उनकी शेल्फ-लाइफ 1 से 2 महीने तक होती है। यदि उन्हें रेफ्रिजरेटर में संग्रहीत किया जाता है, तो उनकी शेल्फ-लाइफ को 4 से 6 महीने तक बढ़ाया जा सकता है। ओपन पीनट बटर की पेंट्री में 2 से 3 महीने और रेफ्रिजरेटर में 6 से 9 महीने की शेल्फ लाइफ होती है। मूंगफली खराब हो सकती है और अगर उन्हें समाप्ति तिथि से परे रखा जाता है तो कड़वा स्वाद ले सकता है। आप बता सकते हैं कि मूंगफली बासी है अगर इसमें थोड़ी गड़बड़, फफूंदीदार या खट्टा-दूध की गंध है। फफूंदयुक्त नट्स खाने से एफ्लाटॉक्सिन की उपस्थिति के कारण समस्या होती है, जिससे एफ्लाटॉक्सिन विषाक्तता हो सकती है। यह लीवर के कार्य को बिगाड़ सकता है और पीलिया, थकान, भूख न लगना और लीवर को नुकसान पहुंचा सकता है।

यह आपके आहार के लिए एक बढ़िया अतिरिक्त हो सकती है। लेकिन इससे पहले कि आप आगे बढ़ें और मूंगफली खाना शुरू करें, इसके संभावित दुष्प्रभावों से अवगत होना बेहतर है।

मूंगफली के नुकसान (Side effects  of peanuts)           

मूंगफली के फायदे और नुकसान दोनों है जिसमें से हमने  मूंगफली के  फायदे को जान लिया है आईये तो अब बात करते है मूंगफली के नुकसान की जो की जाना बहुत ही जरुरी है।

एफ्लाटॉक्सिन विषाक्तता

संभावित एफ्लाटॉक्सिन संदूषण चिंता का कारण है। गंभीर एफ्लाटॉक्सिन विषाक्तता यकृत कैंसर और यकृत की विफलता का कारण बन सकती है। यह उन खाद्य उत्पादों में होता है जो ऐसी परिस्थितियों में संग्रहीत होते हैं जो कवक विकास को बढ़ावा देते हैं। मूंगफली को कम नमी और तापमान वाली जगह पर स्टोर करके आप इसे रोक सकते हैं।

एलर्जी की प्रतिक्रिया का कारण हो सकता है

ड्यूक यूनिवर्सिटी मेडिकल सेंटर द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि मूंगफली कुछ व्यक्तियों में संभावित रूप से जानलेवा एलर्जी का कारण बन सकती है । यदि आप एलर्जी की प्रतिक्रिया विकसित करते हैं, तो कृपया तुरंत नजदीकी आपातकालीन कक्ष में जाएं।

लोहे के अवशोषण को रोक सकता है

मूंगफली में फाइटेट्स होते हैं, जो ऐसे यौगिक होते हैं जो आयरन के अवशोषण को रोकते हैं। यूनिवर्सिटी ऑफ विटवाटरसैंड (दक्षिण अफ्रीका) द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि मूंगफली आयरन के अवशोषण को रोक सकती है।

निष्कर्ष

मूंगफली कई स्वास्थ्य लाभों के साथ पोषक तत्वों से भरपूर फलियां हैं। इनमें कई विटामिन, खनिज और पौधों के यौगिक होते हैं जो कई बीमारियों के इलाज में मदद कर सकते हैं। मूंगफली हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देने, वजन घटाने में सहायता और पित्त पथरी को रोकने में भी मदद कर सकती है। हालांकि, इन नट्स में कैलोरी की मात्रा अधिक होती है। मूंगफली के अधिक सेवन से कुछ प्रतिकूल प्रभाव हो सकते हैं जैसे एफ्लाटॉक्सिन विषाक्तता, एलर्जी, और बाधित लौह अवशोषण। इसलिए, मूंगफली का सेवन सीमित करें और किसी भी दुष्प्रभाव के मामले में अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

एक औंस में कितनी मूंगफली होती है?

एक औंस मूंगफली में लगभग 28 नट्स होते हैं।

क्या आप कच्ची मूंगफली खा सकते हैं?

बिल्कुल। लेकिन, सुनिश्चित करें कि आप उन्हें प्रतिष्ठित वाणिज्यिक ब्रांडों से प्राप्त करें। मोल्ड ग्रोथ की जांच करें और उन्हें ठंडी और सूखी जगह पर स्टोर करें।

क्या मूंगफली कीटोजेनिक हैं?

इसको कीटोजेनिक डाइट का हिस्सा नहीं माना जाना चाहिए। उन्हें फलियां माना जाता है, और केटोजेनिक आहार पर फलियों की सिफारिश नहीं की जाती है।

मूंगफली को विभिन्न भाषाओं में क्या कहते हैं?

मूंगफली को स्पेनिश में मिसेरिया, हिंदी में मूंग फली, फ्रेंच में काकाहुएट्स और जर्मन में एर्डनुसे कहा जाता है।

Leave a comment