Pudina ke fayde

Spread the love
pudina leaf
Pudina Leaf

पुदीना (Mint) एक मशहूर औषधि है जो कई छोटी मोटी बीमारियों को दूर करने में कारगर होता है और हमारे सेहत में काफी सुधार लाता है। यह शरीर पर ठंडा और शांत प्रभाव छोड़ता है जिसकी मुख्य वजह यह है कि यह मैगजीन, ताम्बा, और विटामिन सी का एक बहुत अच्छा स्रोत है। सामान्य तौर पर पुदीने में पौषक तत्वों का भंडार समाहित होता है। इसके अलावा यह एन्टीऑक्सिडिएंट्स, एन्टीबैक्ट्रियल, एंटीवायरल आदि गुणों की वजह से भी जाना जाता है। इसकी तासीर गर्म होती है और इसकी खुशबू से मन पर सकरात्मक प्रभाव पड़ता है।

पुदीने की चमत्कारी गुण

Pudina का प्रयोग विभिन्न सब्जियों और विशेषकर चटनी pudina sauce बनाने में किया जाता है। इसमें अनेक प्रकार के लवण पाए जाते है जो शरीर को चुस्ती और फुर्ती प्रदान करते है। यह हमारे शरीर में पाए जाने वाले हानिकारक जीवाणु को भी नष्ट करता है। इसके अलावा इसमें कई रोगो को जड़ से फेंकने की क्षमता होती है। यदि हरा और ताजा पुदीना उपलब्ध न हो तो पुदीने के पत्तियों को सुखाकर भी काम में लाया जा सकता है। आइये जानते है खुशबूदार पुदीने की चमत्कार गुणों के बारे में।

ज्यादातर लोग पुदीने की चटनी बनाकर खाना पसंद करते है मगर पुदीने के अंदर बहुत सारे ऐसे औषधिये गुण पाए जाते है जो बहुत सी बीमारियों को दूर करने में हमारी बहुत ज्यादा मदद करते है।

पुदीने के फायदे Pudina ke fayde

1. शरीर में नई ऊर्जा प्राप्त करने के लिए थोड़ी सी शक्कर और थोड़े से नमक को पुदीने के रस में मिलाकर पीना चाहिए।

2. चोट लगने पर पुदीने की कुछ पत्तियों को पीसकर घाव या चोट वाली जगह पर लगाने से बहुत जल्दी आराम मिलता है।

3. चर्म रोग दूर करने में भी पुदीना बहुत ही लाभदायक होता है।इसके लिए पुदीने के रस में कुछ बुँदे पानी की मिलाकर लगाया जाये तो यह विभिन्न प्रकार के चर्म रोगो को दूर कर देता है।

4. रात के समय पुदीने की कुछ पतियों को चबाकर खाये उसके बाद ऊपर से पानी पी ले, ऐसा करने से पेट के सभी कीड़े ख़त्म हो जाते है।

5. बुखार खांसी या जुखाम होने पर पुदीने को काला नमक और काली मिर्च के साथ मिलाकर काढ़ा बनाकर पीने से बहुत लाभ मिलता है।

6. लगातार हिचकियाँ आने पर पुदीने का रस या पुदीने की २-३ पत्तियां खाने से हिचकियाँ आना बंद हो जाती है।

7. आवाज साफ़ करने में भी पुदीना एक अहम भूमिका प्रदान करता है। पुदीने के रस के साथ पानी और नमक मिलाकर गर्म करके कुल्ला या गरारे करे, ऐसा नियमित करने से आवाज साफ़ होती चली जाती है।

8. इसका उपयोग सलाद के रूप में भी किया जाता है जो भोजन का स्वाद तो बढ़ाता ही है साथ ही हमारी हड्डियों को भी मजबूत करता है और कोलेस्ट्रॉल को भी कम करता है।

9. इसका शरबत के रूप में भी सेवन करते है। गर्मियों के दिन में बनाया गया पुदीने का शरबत हमे लू से बचाता है।

10. स्वास्थय में सुधार लाने के लिए पुदीने से बनी चाय, सुप वगैरह का भी उपयोग कर सकते है। यह पेट रोग और सर दर्द में भी बहुत फायदेमंद है। पुदीने की चाय सभी अलग अलग तरह के सर दर्द को ठीक करने में मददगार होता है। विशेषकर यह माइग्रेन, तनाव से सम्बंदित सभी तरह के सर दर्द को ठीक करने में कारगर होता है। यह दर्द खत्म करने के साथ रक्त को भी साफ़ करता है। तनावग्रस्त मांसपेशियों को शांत करता है।

11. मौखिक स्वास्थय के लिए भी बहुत लाभदायक होता है पुदीना। इसमें एन्टीबैक्टरियल गुण मौजूद होते है जो मुँह में बैक्ट्रिया को बढ़ने से रोकते है। दांतो कि सड़न और मुँह की किसी भी प्रकार की बीमारी से भी हमारी रक्षा करता है। इसके अलावा यह हमारी सांस को भी तरोताजा रखता है और मुँह की दुर्गंध दूर करने में मदद करता है।

12. पुदीना में अस्थमा और एलर्जी से लड़ने के भी गुण होते है यह कफ को कम करता है और फेफड़े वायुनालियाँ और श्वशननलियों से बलगम को बाहर निकालकर अस्थमा के लक्षण को कम करता है।

13. आधा कप पुदीने के रस को दिन में दो बार पीने से पेट के कीड़े ख़त्म हो जाते है। यदि आंतो में कीड़े हो जाये तब भी पुदीने का रस पीने से आंतो के सभी कीड़े समाप्त हो जाते है।

pudine ke fayde
pudine ke fayde

Skin के लिए पुदीने का प्रयोग

इसमें नीम्बू की कुछ बुँदे डालकर पेस्ट बना ले। इस पेस्ट को चेहरे पर कुछ समय के लिए लगाए। उसके बाद चेहरे को ठन्डे पानी से धो ले। कुछ दिन ऐसा करने से चेहरे के सभी मुहांसे ठीक हो जायेंगे और चेहरा चमकने भी लगेगा और इससे चेहरे की गर्मी भी दूर हो जाती है।

2. यदि सर दर्द हो तो ऐसे में पुदीने की कुछ पत्तियों को पीसकर उसका लेप माथे पर लगाए, इससे सर दर्द दूर हो जाता है। पुदीने की चाय पीने से भी सर दर्द में बहुत आराम मिलता है।

3. पुदीना हमारी सांस को ताजा करता है यह इसकी मुख्य विशेषता है। यह मुँह के बेक्टेरिया के विकास को रोकता है और रोगाणुओं से रक्षा करता है, साथ ही दांतो और जीभ को साफ़ करता है।

पेट से सम्बंधित रोगो के लिए

1. पेट दर्द और आंतो के ऐठन होने पर पुदीने के पत्ते चबा चबा कर खाने से आराम मिलता है।

2. यदि पेट ख़राब हो तो एक कप पुदीने की चाय पीने से पेट में बहुत जल्द राहत मिलती है। पुदीने की खुशबू आपकी मुँह की लार ग्रंथियों को सक्रिय करती है।

3. भूख न लगने पर पुदीना के साथ नमक अदरक, और लहसुन की चटनी पीसकर खाना खाते वक्त सेवन करना चाहिए। इससे अपच की समस्यां दूर होती है और भूख भी खुलकर लगती है।

4. पुदीना उबकाय और उलटी रोकने में भी बहुत फायदेमंद होता है। यह पाचन क्रिया के लिए आवश्यक एंजाइम को सक्रिय करता है जिससे उबकाय और उलटी बहुत हद तक कम हो जाती है। पुदीने कि चाय को धीरे धीरे पीने से भी उबकाय कम करने के लिए में मदद मिलती है।

Pudina Tea

पुदीने की चाय घर पे बहुत ही आसानी से बनाई जा सकती है! थोड़ी सी Pudina Leaf को एक गिलास पानी में उबाल ले फिर इसमें कला नमक कुछ काली मिर्च के दाने डाल कर थोड़ी देर उबले फिर इसमें अपनी इच्छा के अनुसार चीनी और मिल्क मिलाये और सर्वे करे पुदीने की पत्तियों का धो कर इस्तेमाल किया जाना चाहिए!

More benefits of mint in english:

Leave a comment